Translate

बुधवार, 1 मार्च 2017

खिलेंगे ख़ुद-ब-ख़ुद ...

जो  दानिशवर  परिंदों  की  ज़ुबां  को  जानते  हैं
यक़ीनन  वो   तिलिस्मे-आसमां    को  जानते  हैं

तू  कहता  रह  कि  तू  ख़ुद्दार  है  झुकता  नहीं  है
मगर   हम  भी   तेरे   हर  मेह्रबां    को  जानते  हैं

वही     बातें      वही     वादे     वही     बेरोज़गारी
वतन  के   नौजवां   सब  रहनुमां  को    जानते  हैं

कहां  नीयत  कहां  नज़रें  कहां  मंज़िल  सफ़र  की
सभी   रस्ते     अमीरे-कारवां      को    जानते  हैं

खिलेंगे  ख़ुद-ब-ख़ुद  दिल  में  किसी  दिन  आपके  भी
गुलो-ग़ुञ्चे   मुहब्बत  के    निशां     को   जानते  हैं

कहीं  ये  आ  गए  ज़िद  पर  तो  दुनिया  को  डुबो  दें
तेरे   लश्कर    मेरे  अश्के-रवां     को    जानते  हैं

तेरे  अहकाम  पर    चलती  नहीं    मख़लूक़  तेरी
इलाही !  हम    तेरे  दर्दे-निहां    को     जानते  हैं  !

                                                                                                     (2017)

                                                                                                -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: दानिशवर : विद्वत्जन; परिंदों : पक्षियों; ज़ुबां : भाषा; यक़ीनन : निश्चय ही; तिलिस्मे-आसमां : आकाश/ईश्वर का रहस्य; ख़ुद्दार : स्वाभिमानी; मेह्रबां : कृपा करने वाले; रहनुमां : नेता गण; अमीरे-कारवां : यात्री दल का प्रमुख; ख़ुद-ब-ख़ुद : स्वयंमेव; गुलो-ग़ुञ्चे : पुष्प एवं कलियां; निशां : चिह्न; लश्कर : सैन्य-दल; अश्के-रवां : बहते आंसू; अहकाम : आदेशों; मख़लूक़ : सृष्टि; इलाही : ईश्वर; दर्दे-निहां : गुप्त पीड़ा ।


1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 02-03-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2600 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं